Tuesday, November 24

गोरखपुर में कोरोना संदिग्ध मरीज की मौत, नमूना लेने वाले दो लैब टेक्नीशियन भी आइसोलेशन वार्ड में भर्ती

सोमवार को सांस फूलने को लेकर बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में भर्ती बस्ती जिले के तुर्कहिया निवासी मरीज की मौत हो गई थी। कोरोना संक्रमण की जांच के लिए उसका नमूना लिया गया था। नमूना लेने वाले दो लैब टेक्नीशियन मेडिकल कॉलेज के सुपर स्पेशलिटी में कोरोना के लिए बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हो गए। कॉलेज में यह चर्चा आम है कि बस्ती वाले मरीज की कोरोना संक्रमण जांच पॉजिटिव आई है, इसीलिए नमूना लेने वाले लैब टेक्नीशियनों को भर्ती कराया गया है। हालांकि प्राचार्य डॉ गणेश कुमार का कहना है कि अभी जांच रिपोर्ट नहीं आई है। एहतियातन उन्हें भर्ती कराया गया है।

 

 

यदि जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो प्रोटोकॉल के अनुसार शव का निस्तारण कराया जाएगा। सांस लेने में तकलीफ से परेशान बस्ती के तुर्कहिया निवासी एक युवक को रविवार को मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन के 14 नंबर वार्ड में भर्ती कराया गया था। सोमवार को तबीयत बिगड़ने पर उसे आईसीयू में शिफ्ट किया गया जहां उसकी मौत हो गई। संदेह होने पर कोरोना संक्रमण की जांच के लिए उसका नमूना लेकर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया था।

 

 

बस्ती के दरगहिया निवासी हसनैन अली (25) की तबीयत खराब होने पर रविवार को परिजन उसे बीआरडी मेडिकल कालेज लेकर आए ‌थे। उसको सांस लेने में तकलीफ थी। इसकी वजह से ट्रॉमा सेंटर से उसे मेडिसिन के वार्ड नंबर 14 में भर्ती किया गया था। विभागाध्यक्ष डॉ. महीम मित्तल की टीम इलाज कर रही थी। रविवार की रात में हालत बिगड़ी तो उसे कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए बने वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। वहां उसे वेंटीलेटर पर रखा गया था।

 

 

सोमवार की सुबह तक उसके हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। इस बीच उसकी मौत हो गई। हसनैन अली की मौत के बाद कोरोना वार्ड में डॉक्टर और कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। इसके बाद डॉक्टरों ने परिजनों से मरीज के विदेश यात्रा की जानकारी मांगी। लेकिन परिजन बताने को तैयार नहीं हुए। मामले की गंभीरता को देखते हुए कॉलेज प्रशासन ने मरीज के कोरोना संक्रमण की जांच कराने के लिए लार का नूमना ले लिया है। इसके बाद शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *