Sunday, May 16

किसानों की आम धारणा हुई गलत साबित,अच्छी गेहूँ उपज के लिए अपनाने होंगे यह खास तरीके

गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा )  इस समय गेहूं की फसल से खेत लहलहा रहें हैं किसानों के खेतों में उपजे गेहूं की फसल में अब दाने पड़ने प्रारंभ हो गए हैं खेतों की देख रेख के साथ किसानों को अच्छी उपज के लिए फसल का और भी ध्यान रखना होगा किसानों में भ्रम फैला हुआ है सिंचाई कर दी गई तो उपज अच्छी नहीं होगी, परंतु ऐसा नहीं है जैसे जैसे टेंपरेचर बढ़ता है परिवर्तन के साथ-साथ खेत की नमी भी कम हो जाती है

इस तरह से हो सकती है अच्छी उपज।

अधिक से अधिक किसानों का यही मानना है के जब बाली निकलने लगती है,और बाली निकलने के बाद सिंचाई करने से गेहूं के दाने पतले हो जाते हैं और खेतों में इससे सही फसल नहीं होती इसलिए किसान सिंचाई नहीं करते क्योंकि इससे उपज का औसत घट जाता है। तो बता दें ऐसा मानने वाले गलत हैं क्योंकि इस सोच का कोई जैविक आधार नहीं है।

कृषि विज्ञान केंद्र बेलीपार वैज्ञानिक के अनुसार –

कृषि विज्ञान केंद्र बेलीपार के वैज्ञानिक डॉ एसके तोमर से इसके संबंध में बातचीत हुई  उन्होंने कहा गेहूं की फसल की सिंचाई करना बहुत जरूरी है। टेंपरेचर बढ़ने से तथा इस समय हवा चलने से खेत  नमी तेजी से कम हो जाती है और गेहूं के दाने अच्छे आए इसके लिए खेत में नमी बरकरार रहना बहुत जरूरी है। इसका एक यही सिर्फ तरीका है के खेत की सिंचाई की जाए जिससे के अच्छी उपज हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *