Tuesday, November 24

यूपी के इंजीनियर को यूएई में 15 साल की सजा और एक करोड़ का जुर्माना, क्या सुलतान करेंगे दया ?

शाहपुर के बशारतपुर निवासी एक इंजीनियर जो कि 10 वर्ष से यूएई में रह रहे थे। ईशनिंदा के आरोप में उन्हें यूएई में गिरफ्तार कर लिया गया और 15 साल की सजा के साथ एक करोड़ का जुर्माना मांगा गया है। दरअसल, शाहपुर के बशारत के रहने वाले अखिलेश पांडे जो कि 10 साल से यूनाइटेड सीमेंट कंपनी रास अल खेमा यूएई में सीनियर सेफ्टी इंजीनियर के पद पर थे उन्हें ईशनिंदा के आरोप में यूएई में गिरफ्तार कर लिया गया है। आपको बता दें, यह आरोप उनके साथ काम करने वाले एक सोडानी और एक पाकिस्तानी के साथ दो भारतीय मजदूरों ने लगाया है|

 

 

इस मामले में उन्हें अक्टूबर 2019 में वहां की पुलिस ने गिरफ्तार किया था। काफी सारे जांच पड़ताल के बाद भी कोई वीडियो, ऑडियो रिकॉर्डिंग क्लिप सहित कोई भी साक्ष्य नहीं मिला पर यूएई में कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध मान लिया जाता है और इसी के आधार पर अबूधाबी की कोर्ट ने अखिलेश को 22 फरवरी, 2020 को सजा सुनाई है। यूएई की अदालत ने इंजीनियर को 15 साल की सजा और भारतीय मुद्रा के हिसाब से 1 करोड़ का जुर्माना लगाया है।

 

सिर्फ गवाहों के आधार पर पुलिस ने जो चार्जशीट तैयार की उसमें कहा कि अखिलेश ने यूएई के मुस्लिम नागरिकों को भद्दी गालियां दी हैं। यूएई के सुल्तान को गाली देते हुए उन पर गंभीर आरोप लगाया है जो एक राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का मामला बनता है। श्री पाण्डेय ने मुस्लिम धर्म को भी भला-बुरा कहा है आदि।

 

 

अखिलेश की पत्नी जो कि उनके साथ यूएई में ही रहती थी। अखिलेश को बेगुनाह बताते हुए यूपी के मुख्यमंत्री, विदेश मंत्री और प्रधानमंत्री को पत्र भेजने के साथ ही गोरखपुर सदर सांसद रवि किशन, बांसगांव सांसद कमलेश पासवान और देवरिया सांसद रमापति राम त्रिपाठी तथा राज्यसभा सांसद शिव प्रताप शुक्ल के जरिए विदेश मंत्रालय को पत्र लिखवाया है। आपको बता दें, अंकिता ने अखिलेश को सजा माफी दिलाने की अपील की थी, जिसके बाद सांसद सहित अन्य पत्रों के आधार पर केंद्र सरकार ने यूएई सरकार से दया याचिका भेजकर अखिलेश को वापस भेजने की मांग करी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *