Tuesday, November 24

अच्छी खबर : अब घर बैठे बनवाये ये गोल्डन कार्ड, उसके बाद पाए ये सेवाएं बिलकुल मुफ्त

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आयुष्मान भारत का आयुष्मान गोल्डन कार्ड अब घर बैठे लोगों को भी मिलेगा। सरकार और शासन का प्रयास है कि जिले में कोई भी ऐसा घर और गांव ना रह जाए जिसमें गोल्डन कार्ड न बने हो। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) के तहत हर गांव में गोल्डन कार्ड की सुविधा पहुंचाने के लिए 1 नवंबर तक विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए गांव-गांव में कैंप लगाए जाएंगे और वहां की आशा बहनों के माध्यम से लाभार्थियों तक शिविर की सूचना पहुंचाई जाएगी।

 

 

 

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ श्रीकांत तिवारी ने बताया कि कोविड-19 के कारण गोल्डन कार्ड बने के इस अभियान में रोक लग गई थी परंतु इसे अब दुरुस्त किया जाएगा और पुनः प्रारंभ किया जाएगा। इसके बारे में मुख्य सचिव चिकित्सा अधिकारी अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि योजना के नोडल अधिकारी डॉ नीरज कुमार पांडे की देखरेख में यह पूरा अभियान चलेगा। आशा बहनों को गोल्डन कार्ड बनाने को प्रोत्साहित करने के लिए ₹10 प्रति कार्ड मिलेगा। आशा बहनों को लाभार्थियों की प्रिंटेड जानकारी मिल जाए उसके बाद यह कार्ड की प्रक्रिया चालू हो। जागरूकता के उद्देश्य से प्रत्येक आशा को योजना से संबंधित 50 लिफलेट मिलेंगे।

 

 

 

 

आशा बहन प्रिंटेड डाटा के आधार पर लाभार्थियों को सूचना देंगे कि कॉमन सर्विस सेंटर के आधार पर 1 नवंबर को गांव में कैंप लगाकर कार्ड बनाया जाएगा। इच्छुक लाभार्थी कार्ड का शुल्क ₹30 देकर गोल्डन कार्ड बनवा सकते हैं। इस अभियान की सफलता के लिए जिलाधिकारी स्तर से सेक्टर ऑफिसर भी तैनात किए जाएंगे। गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज मूल राशन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड यह तीनों कार्ड अनिवार्य है। अभियान के लिए जिला स्तर पर एक टीम बनी है इस टीम में डॉक्टर सुचिता मल्ल, शशांक शेखर और विनय पांडे शामिल है। यह लोग इस अभियान की मॉनिटरिंग करेंगे।

 

 

 

अभियान के तहत उन्हीं लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनेगा जो 2011 की सूची में अर्थात जिनका नाम 2011 की सूची में आप इस योजना के लाभार्थी है या नहीं यह पता करने के लिए आप इस टोल फ्री नंबर 180018004444 या 14555 पर कॉल कर सकते हैं। इस कार्ड के बहुत से फायदे हैं जैसे इस कार्ड को रखने पर अस्पताल पहुंचने पर लाभार्थी का घंटों का समय बचेगा या कार्ड वेरीफाई कर मरीज का तुरंत इलाज शुरू हो जाएगा। आज सामान्य दिनों में किसी भी जनसेवा से ₹30 देकर यह कार्ड बनवा सकते हैं इस कार्ड का मुख्य मकसद मरीजों के इलाज में सहूलियत प्रदान करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *