Sunday, May 16

सुप्रीम कोर्ट ने की वसीम रिज़वी की याचिका खारिज, लगाया 50,000 रू जुर्माना, आखिर वो क्या थी मांग?

कोर्ट में कुरआन की कुल आयतों में से 26 आयत हटाई जाए याचिका पेश की गई थी जिसको सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। यही नहीं बल्कि कोर्ट ने याचिका खारिज कर याचिकाकर्ता पर 50,000 रू जुर्माना भी लगाया। उत्तर प्रदेश शिया वक्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी ने यह याचिका दाखिल की थी और याचिका में 26 आयत को हिंसा तथा आतंक को बढ़ावा देने वाली आयत हैं हटाए जाने की मांग की थी।

 

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा  –

सोमवार को वसीम रिजवी की याचिका न्यायमूर्ति आरएस नरीमन बीआर गवई तथा ऋषिकेश राय की पीठ के सामने सुनवाई के लिए गई तो कोर्ट ने सुनवाई की शुरुआत करने से पहले वसीम रिजवी के वकील से पूछा, क्या आप वाकई अपनी याचिका पर बहस करना चाहते हैं। इस प्रशन पर याचिकाकर्ता के वकील ने जवाब दिया मदरसों में यह आयते पढ़ाई जा रही हैं जिससे छात्र गुमराह हो रहे हैं और इन आयतों से हिंसा तथा आतंकवाद को भी बढ़ावा मिल रहा है। परंतु कोर्ट याचिका पर विचार करने का जरा अभी इच्छुक नहीं दिखा और पीठ ने याचिका को आधारहीन बताते हुए खारिज कर दिया।

 

 

वसीम रिजवी ने याचिका में कहा था।


अपनी याचिका में कहा इस्लाम बराबरी तथा इक्वालिटी और दयालुता की अवधारणा पर बेस्ड है। परंतु कुरान की कुल आयतों में 26 आयतें ऐसी है जो आतंक को बढ़ावा दे रहीं हैं और यह आयतें देश के सभी मदरसे में पढ़ाई जा रही है। पवित्र कुरान की ये 26 आयतें हिंसा और आतंकवाद को बढ़ावा देने वाली है। इसलिए इसे हटाया जाए जिससे आतंकवादी गतिविधियों से समुदाय का नाम जुड़ सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *